भारतीय पायलटों ने दी अमेरिकी तकनीक वाले विमानों को मात, उड़ गए अमेरिका के होश

पाक अधिकृत कश्मीर में एयर स्ट्राइक के दौरान अमेरिकन तकनीक वाले एफ 16 को पीछे हटने के लिए मजबूर कर दिए जाने से अमेरिका के होश उड़ गए हैं। अमेरिका मानना है कि उसके एफ 16 आज भी विश्व के सर्वश्रेष्ठ लड़ाकू विमान हैं और वे किसी भी विमान का मुकाबला कर सकते हैं, लेकिन भारतीय मिराज लड़ाकू विमानों के सामने उनके मुंह की खा जाने से अमेरिका न सिर्फ हतप्रभ है बल्कि उसे यह चिंता सताने लगी है कि अगर उसके बनाए हुए विमान ऐसे ही पीछे हटते रहे तो विश्व के हथियार बाजार में उसकी इज्जत दो कौड़ी की रह जाएगी।

असल में अमेरिका के एफ 16 विमान अपनी तरह के ​बेजोड़ लड़ाकू विमान माने जाते हैं और वे खाड़ी से लेकर अफगानिस्तान तक विश्वसनीय हथियार साबित हुए हैं। यहां तक कि वियतनाम युद्ध में भी अमेरिकी एफ 16 ने भारी कहर ढाया था। इस विमान की हथियार प्रणालियां इतनी परिष्कृत हैं कि दुनिया की कोई भी दूसरी विमान कम्पनी अपने लड़ाकू विमानों को उनकी टक्कर का बनाने में कामयाब नहीं मानी जाती हैं।

एफ 16 से हवाई युद्ध में पारंगत होने के साथ ही दुश्मन के इलाके में भीतर तक घुसकर हमला करने में माहिर होता है। गति के मामले में मिराज की टक्कर का यह विमान पलक झपकते ही कई हजार फुट की ऊंचाई पर जाकर गोता लगाकर कुछ सौ फुट तक चंद सेकंडों में आ जाता है। कलाबाजी में उसका कोई सानी नहीं है। उस पर लगी तोप पांच किलोमीटर तक गोले दागने की क्षमता रखती है।

आगे बढ़ती दुश्मन की पैदल सेनाओं को रोकने के लिए उसमें पांच एम एम की छह मशीनगन प्रति मिनट दो हजार गोली बरसा कर उन्हें तितर—बितर कर देती हैं। इतना ही नहीं यह विमान टैंक भेदी हथियारों से लैस होने की वजह से टैंक युद्ध के वक्त दुश्मन को भारी नुकसान पहुंचा सकता है।

Khoj Media Me Aapka Swagat Hai. Agar Aap Rojana Aisi hi khabar Apne facebook Par Pana chahte hain to Khojmedia Ke Facebook Page Ko abhi Like Kare.

Related Posts:

Disqus Comments