PUBG खेलने वालों पर कार्रवाई करेगी पुलिस, फोन होगा जब्त जानिए क्यों?

PUBG दुनियाभर में मोबाइल पर खेला जानेवाला एक पॉपुलर गेम है। भारत में भी इसके काफी दीवाने हैं। PUBG मार्च 2017 में जारी हुआ था। ये गेम एक जापानी थ्रिलर फिल्म 'बैटल रोयाल' से प्रभावित होकर बनाया गया जिसमें सरकार छात्रों के एक ग्रुप को जबरन मौत से लड़ने भेज देती है। PUBG में करीब 100 खिलाड़ी किसी टापू पर पैराशूट से छलांग लगाते हैं, हथियार खोजते हैं और एक-दूसरे को तब तक मारते रहते हैं जब तक कि उनमें से केवल एक ना बचा रह जाए। अब एक खबर वायरल हो रही है जिसके मुताबिक भारत में पबजी को बैन का आदेश जारी कोर्ट की ओर से जारी किया गया है

पहले पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि गुजरात पुलिस ने चेतावनी जारी की है कि सरेआम मोबाइल गेम PUBG खेलते पाए जाने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। एक और वायरल पोस्ट का दावा है कि "महाराष्ट्र हाईकोर्ट" ने इस गेम को बैन कर दिया है। पहले महाराष्ट्र हाईकोर्ट के इस कथित नोटिस की बात करें तो। सबसे पहले तो कोर्ट का नाम ही शक में डालता है क्योंकि महाराष्ट्र हाईकोर्ट नाम की कोई चीज है ही नहीं। महाराष्ट्र में हाईकोर्ट का नाम बॉम्बे हाईकोर्ट है


पोस्ट कहता है, "आपको सूचित किया जाता है कि PUBG कोई ऑपरेशन नहीं करेगा और Tencent Games Corporation को कानूनी नोटिस भेजे गए हैं।" अंग्रेजी में लिखे इस पोस्ट में व्याकरण और स्पेलिंग की कई अशुद्धियां हैं। जैसे इसमें "magistrates" को "majestratives" लिखा गया है

नोट एक "prejudge" के नाम से जारी किया गया है, जबकि भारत में इस नाम का कोई पद नहीं होता। जिस अधिकारी के श्रीनिवासुलु के नाम से नोटिस जारी किया गया है उस नाम के किसी शख्स के महाराष्ट्र की न्यायिक सेवा में काम करने का कोई सबूत नहीं है और अब गुजरात पुलिस के कथित नोटिस की चर्चा जो गुजराती भाषा में है। इसमें लिखा है, "अगर कोई सार्वजनिक जगहों पर PUBG खेलते पाया गया, तो उस व्यक्ति के ख्लाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी और उसका मोबाइल फोन जब्त कर लिया जाएगा।

इस पोस्टर के भी असल होने को लेकर संदेह है। इसमें ना तो तारीख लिखी है, ना इसे जारी करने वाले का नाम। इसमें भी कई अशुद्धियां हैं। ऐसे फर्जी पोस्ट ट्विटर पर भी शेयर किए जा रहे हैं। जब भागीरथसिंह वाला नाम के एक यूजर ने इसकी सत्यता जानने के लिए गुजरात पुलिस को ट्वीट किया तो उन्हें तत्काल ये जवाब मिला, इसमें लिखा था - "ये फर्जी है। #GujaratPolice ने ऐसा कोई आदेश जारी नहीं किया

Tencent Games ने अभी तक इन दावों के बारे में कोई बयान जारी नहीं किया है। ये गेम काफ़ी पॉपुलर है मगर इसे लेकर विवाद भी हुए हैं। इस साल जुलाई में, इसमें एक पायलट के मास्क पर उगते हुए सूर्य को दिखाया गया जो इसके स्टोर में उपलब्ध था। इसे लेकर कई कोरियाई और चीनी लोगों ने आपत्ति की क्योंकि ऐसे मास्क उपनिवेशवादी जापानी सेना इस्तेमाल करती थी। इसके बाद गेम डेवलपर्स को इसे अपने स्टोर से हटाना पड़ा और इसे खरीदने वाले खिलाड़ियों को पैसे लौटाने पड़े..

Khoj Media Me Aapka Swagat Hai. Agar Aap Rojana Aisi hi khabar Apne facebook Par Pana chahte hain to Khojmedia Ke Facebook Page Ko abhi Like Kare.

Related Posts:

Disqus Comments