अभिनंदन को आज़ाद करने में पाकिस्तान की देरी की वजह जानकर आपको आएगी हंसी

आखिरकार भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन की वतन वापसी हो गयी. 28 फरवरी को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने ऐलान किया था कि 1 मार्च को अभिनंदन को हिन्दुस्तान के हवाले किया जाएगा. इसके बाद देश में ख़ुशी की लहर दौड़ गयी थी. लेकिन 1 मार्च को अभिनंदन को आज़ाद करने में पाकिस्तान ने काफी वक़्त लगा दिया.

अभिनंदन की रिहाई वाघा बॉर्डर पर होनी थी. तय माना जा रहा था कि दोपहर तक अभिनंदन भारत की जमीन पर वापस कदम रख लेंगे. लेकिन पाकिस्तान ने रात 9 बजे के बाद अभिनंदन की रिहाई की प्रक्रिया पूरी की. इसके पीछे की वजहों का अभी पूरी तरह खुलासा नहीं हुआ है. लेकिन जो शुरुआती वजहें सामने आ रही हैं, उन्हें जानकर आपको पाकिस्तान पर हंसी आएगी.

सोशल मीडिया और quora पर बताया जा रहा है कि पाकिस्तान चाहता था कि विंग कमांडर अभिनंदन की रिहाई रात 9 बजे के बाद हो. यह समय टीवी पर प्राइम टाइम का होता है. यानी इस समय भारत और पाकिस्तान में सबसे ज्यादा लोग टीवी देखते हैं. इस तरह पाकिस्तान ज्यादा से ज्यादा लोगों तक यह सन्देश देना चाहता था कि उन्होंने जेनेवा संधि का ध्यान रखते हुए अभिनंदन को वापस भारत के हवाले किया. इससे दोनों देशों में पाकिस्तान की छवि अच्छी बनने की उम्मीद भी थी.

हालाँकि, पाकिस्तान स्थित भारतीय उच्चायोग ने 1 मार्च की दोपहर में ही विंग कमांडर अभिनंदन की वतन वापसी के लिए जरूरी कागज़ी कार्रवाई पूरी कर ली थी. पाकिस्तान इस बात को जानता था, इसीलिए उसने अपने फायदे के लिए देर रात का समय चुना. दूसरी वजह यह बताई जा रही है कि पाकिस्तान चाहता था कि वाघा बॉर्डर पर ज्यादा से ज्यादा लोग पहुँच जाएं, जिससे लाखों लोगों के सामने अभिनंदन को हिन्दुस्तान को सौंपकर वह एक बेहतर देश की छवि हासिल कर सके. हालाँकि, सभी जानते हैं कि वैश्विक दबाव और जेनेवा संधि के कारण पाकिस्तान ने अभिनंदन को छोड़ा.

इन सब बातों के बीच एक ऐसी वजह भी सामने आ रही है, जिसे सुनकर आपको सबसे ज्यादा हंसी आएगी. यह तो सभी जानते हैं कि डिजिटल क्रांति के मामले में पाकिस्तान काफी पीछे है. संभव है कि अभिनंदन की रिहाई से जुड़ी कार्रवाई में लगने वाले दस्तावेजों पर दस्तखत कराने के लिए अफसरों को बार-बार वाघा से इस्लामाबाद का चक्कर लगाना पड़ रहा होगा, जिस वजह से इतनी ज्यादा देरी हुई. अब सोचिए कि जब दुनिया डिजिटल हो रही है, तब पाकिस्तान इससे कितना दूर है. फिर भी वो खुद को किसी से कम न समझने का घमंड पाले हुए बैठा है. जय हिन्द.

Khoj Media Me Aapka Swagat Hai. Agar Aap Rojana Aisi hi khabar Apne facebook Par Pana chahte hain to Khojmedia Ke Facebook Page Ko abhi Like Kare.

Related Posts:

Disqus Comments