भारत पाकिस्तान से छुहारे क्यों मंगाता है क्या भारत मे छुहारे नही होते। आइये जानते है।

छुहारे(Dried Plam) की खेती के लिए मौसम-

छुहारे की खेती करने लिए गर्म मौसम की जरूरत होती है। यानी कि 45℃ के आस पास और कम से कम 7℃, इसकी खेती वही पर की जाती है जहाँ पर कम से कम बारिश होती है क्योंकि जब छुआरों के पेड़ पर फल आ रहा होता है तो बारिश के होने से वो बेकार हो जाता है। अगर छुहारे की फसल 7℃ से नीचे के तापमान में 12–17 घण्टे रह ले तो फसल खराब हो जाती है।

भारत मे छुहारे की पैदावार-

क्योंकि भारत मे ऐसी बहुत हीं कम जगह है जहाँ तापमान ज्यादा रहता हो और बारिश भी कम होती हो लेकिन इन सब के बावजूद भारत मे छोटे स्तर पर इसकी खेती की जा रही है भारत के कुछ राज्य(गुजरात,राजस्थान,केरल,तमिलनाडु) में इसकी खेती की जा रही है जो कि आने वाले समय मे बढ़ सकती है।

पाकिस्तान से आयात क्यों-

भारत मे छुहारे और अन्य ड्राई फ्रूट की बहुत डिमांड रहती है। और इस डिमांड को पूरा करने के लिए हमे आयात करना पड़ता है। क्योंकि मांग के हिसाब से भारत में बहुत कम उत्पादन होता है इसलिए भारत पाकिस्तान से आयात करता है

क्योंकि पाकिस्तान एशिया में एकमात्र ऐसा देश है जो बड़े स्तर पर इसकी खेती करता है। और दुनिया भर में छुहारे उत्पादन के मामले में ये 5 वे नंबर पर आता है। इसकी सबसे ज्यादा खेती Egypt में होती है पाकिस्तान में सिंध में सबसे ज्यादा छुहारे का उत्पादन होता है क्योंकि वहां का मौसम इस खेती के लिए अनुकूल है।

एक रिपोर्ट के अनुसार भारत ने पाकिस्तान से 2016–17 में 171,004 टन छुहारों का आयत किया जो 2015–16 के मुकाबले लगभग 57,000 टन ज्यादा है।

पाकिस्तान के अलावा अन्य विकल्प?

अन्य देश भी है जो इसकी खेती करते है जैसे सऊदी अरब, ईरान, इराक भारत इनसे से भी छुहारे आयात कर सकता है। लेकिन पाकिस्तान पड़ोस में होने के कारण छुहारे पर कम लागत आती है। पर अगर किसी अन्य देश से छुहारे का आयात किया जाय तो हो सकता है इसकी लागत बढ़ जाये।

Khoj Media Me Aapka Swagat Hai. Agar Aap Rojana Aisi hi khabar Apne facebook Par Pana chahte hain to Khojmedia Ke Facebook Page Ko abhi Like Kare.

Related Posts:

Disqus Comments